First blog post

This is your very first post. Click the Edit link to modify or delete it, or start a new post. If you like, use this post to tell readers why you started this blog and what you plan to do with it.

post

Advertisements

मेरी   मोहब्बत   को    तुम    सार    दे    गये

मेरी मोहब्बत को तुम सार दे गये
जिसकी कमी थी मुझको वो प्यार दे गये

नैनों में जो राज अब तक छुपे थे
देकर मोहब्बत वो इनको पार कर गये

तेरी ही यादें ही याद रहती मुझको
जैसे महकता कोई गुलजार दे गये

बंदिशें जमाने की सारी हमने जीती थी
छीन के दिल को वो हमको हार दे गये

मेरे गीत गजलों को ऐसा रूप दे गये
छेड़ी ऐसी धुन कि दिले बेकरारी दे गये

गम के ही तो बादलों का था बसेरा मुझ पर
आये जो तुम तो खुशियाँ हजार दे गये

मन नहीं लगता

क्या करूँ दिनभर, मन नही लगता
वो तेरा फोन, अब नही लगता
…..
ख्वाब अब तो सारे, मर से गये है
दिल अपनी बात जो , अब नही करता
…..
मंदिरों ओ मस्जिदों के, चक्कर छूट गये
ख्वाइशें पूरी मेरी जो, रब नही करता
…..
सच कहते है लोग, हद पार कर दी है
करता तो हूँ लेकिन,सब नही करता
…..
मोहब्बत का मजा, उतरने लगता है
प्यार से गर कोई, जब नही लड़ता
…..
देते है अपने भी दगा, वक्त पर लेकिन
आदत सी हो गयी इसलिए, गम नही करता
…..
एक एक शब्द में तुम्हारी, सूरत दिखती थी
छुपा कर रखा तुम्हारा, वो खत नही पढ़ता
…..
दूर हो तुम फिर भी,आंखें नम नही करता
प्यार भी तुमसे लेकिन, कुछ कम नही करता

कवि – मनुराज वार्ष्णेय

😶😶😶

अचरज है ये जिंदगी भी , कैसे ख्वाबों में उलझी है

चैन न सुख की चाँदनी , ऐसे महताबों में उलझी है

मुक्तक

वो कहते है समंदर पार की , गलियां तुम्हारी है
इस दिल मे जो धड़कती है , वो धड़कन तुम्हारी है
मगर मुश्किल बस इतनी है , इस जाहिल जमाने मे
जो किसी को रास नही आती , वो जोड़ी हमारी है

मुक्तक

समंदर की गहराइयों से , ये पैगाम आया है
जमाने से लुटे लोगों में , मेरा भी नाम आया है
मोहब्बत की है तो फिर टूट के , बिखरना भी जरूरी है
इससे बचने को न पैतरा , कोई भी काम आया है

समंदर बन गयी आँखें 

मेरे दिल की दीवारों पर तेरी तस्वीर छायी है 

हुई जो तुम जुदा जब से उदासी जमके आयी है 

अज़ीयत में तो देखो तुम ये कैसा हाल मेरा है 

समंदर बन गयी आंखें तबाही जमके आयी है 

तुम हो !

मेरी ज़िंदगी का सुकून , चैन तुम हो 

मेरी ज़िंदगी का जन्म और अंत तुम हो 

किसी सूत्र में बंधी कविता , गीत , गजल नही हो 

बल्कि दिल से जो निकला है वो सुर तुम हो 
मेरी रातों की तन्हाई में साथ देने वाली तुम हो 

मेरे सूने दिन को बज्म बनाने वाली तुम हो 

जब छुटकारा पाता हूँ दुनिया के तौर तरीकों से 

तब मेरे साथ मुझे आराम देने वाली तुम हो 
मैं हर रोज खुदा से माँगता हूँ कि मैं कभी अकेला न रहूँ 

तब तुम्हारी अनुपस्थिति में जो यादें साथ देती है वो तुम हो 

ये कोई तरीका नही है दिल का हाल सुनाने का 

इसकी वजह कुछ नही सिर्फ तुम हो सिर्फ तुम हो